Select Page
क्या द्वंद को पूरी तरह से छोड़ पाना मुमकिन है?

क्या द्वंद को पूरी तरह से छोड़ पाना मुमकिन है?

क्या द्वंद को पूरी तरह से छोड़ पाना मुमकिन है? प्रश्न-   कहते हैं कि इस ब्रह्मांड में समय का कोई अस्तित्व नहीं है। मेरा प्रश्न ये है कि क्या हम शरीर में रह कर यह महसूस कर सकते हैं? योग वशिष्ठ में लीला की कहानी में, लीला को पूरी तरह से  द्वंद का त्याग करना पड़ता है।...