Select Page
देह और काम से जुड़े संस्कार!

देह और काम से जुड़े संस्कार!

देह और काम से जुड़े संस्कार! प्रश्न-   मेरे मन में यह संस्कार है कि ‘मैं शरीर हूँ’। मन में बसे इस तरह के गहरे संस्कारों से मैं कैसे छुटकारा पाऊँ? क्या यह संस्कार मेरे मनुष्य शरीर में दोबारा जन्म लेने का कारण होंगे?   उत्तर-   संस्कारों से...
भगवान सुबह की सैर पर हैं!

भगवान सुबह की सैर पर हैं!

भगवान सुबह की सैर पर हैं। प्रश्न- आपने कहा था कि जीवन का कोई उद्देश्य नहीं है। क्या भगवान का भी कोई उद्देश्य नहीं है? उसने हमारी रचना क्यों की? उसने इस संपूर्ण सृष्टि की रचना क्यों की? क्या इन सब का कोई उद्देश्य नहीं है? शायद भगवान का कोई उद्देश्य रहा हो? कृपया...